ताजा खबरें

हैदराबाद की बेटी को न्याय दिलाकर रहूंगी -निर्भया की माँ

Publish On: 02 Dec, 2019 01:57 PM | Updated   |   Shivani  

दिल्ली सरकार द्वारा 2012 के निर्भया रेप व हत्या मामले में एक दोषी की दया याचिका खारिज करने के फैसले का दुनिया ने स्वागत किया। वहीं इसी बीच निर्भया की मां आशा देवी ने भी कहा कि दिल्ली सरकार के फैसले का स्वागत करती हूं। मुझे उम्मीद है कि आरोपियों को जल्द ही फांसी पर लटकाया जाएगा। इसके साथ ही निर्भया की माँ ने कहा कि अब वह हैदराबाद की बेटी को न्याय दिलाने के लिए लड़ाई लड़ेंगीं। 

निर्भया की मां ने कहा कि मैं हैदराबाद की घटना से बहुत दुखी हूं। निर्भया के बाद अब मैं हैदराबाद की बेटी की लड़ाई लड़ूंगी, मैं हैदराबाद जाने के बारे में भी सोच रही हूं। उन्होंने कहा कि उन्हें तो न्याय के लिए सात सालों तक लड़ना पड़ा लेकिन उसे जल्द न्याय मिलना चाहिए। हैदराबाद सरकार को जल्‍द से जल्‍द पीड़ित पक्ष को न्‍याय दिलाना चाहिए। 

बता दें कि दक्षिण दिल्ली में एक चलती बस में 16-17 दिसम्बर 2012 की मिड नाईट को छह लोगों ने पैरामेडिकल की छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार किया और उसे सड़क पर फेंकने से पहले उसके साथ काफी बर्बरता की थी। सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में 29 दिसम्बर 2012 को उसकी मौत हो गई थी। हैदराबाद में भी इसी तरह की घटना हुई जहां आरोपियों ने महिला डॉक्‍टर के साथ रेप करने के बाद उनकी हत्‍या कर दी और फिर उनके शव को जला दिया। 

साल 2012 के दिल्ली निर्भया रेप व हत्याकांड मामले में एक दोषी की मर्सी पेटीशन को राज्य सरकार ने खारिज कर दिया था। तकरीबन सात सालों तक अपनी बेटी के लिए जस्टिस की मांग करती रहीं आशा देवी ने सोमवार को दिल्ली सरकार के मर्सी पेटीशन खारिज करने के फैसले का स्वागत किया।

उन्होंने बताया कि मैं इस जघन्य घटना के एक दोषी की दया याचिका को खारिज करने के दिल्ली सरकार के फैसले का स्वागत करती हूं। मुझे उम्मीद है कि जल्द ही आरोपी को फांसी की सजा होगी। 2012 में देश को दहलाने वाले निर्भया रेप केस मामले में केजरीवाल सरकार ने विनय शर्मा नाम के शख्स की दया याचिका को खारिज कर दिया था।

चलती बस में गैंगरेप और हत्या की वारदात में शामिल चार लोगों में से ही एक का नाम विनय शर्मा है। दिल्ली सरकार ने इसकी दया याचिका खारिज करने के फैसले को लेकर लिखा- '''यह बेहद क्रूर और सबसे जघन्य अपराध है, यहां याचिकाकर्ता को सख्त से सख्त सजा दिए जाने की जरूरत है ताकि उन लोगों को संदेश दिया जा सके जो इस तरह के अपराध करते हैं''।

हैदराबाद के साइबराबाद में हुए महिला पशु चिकित्सक के साथ रेप व हत्या की घटना पर भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए आशा देवी ने कहा कि ''ये बेहद ही बर्बरतापूर्ण है। ये ठीक वैसा ही है जैसा मेरी बेटी के साथ 2012 में हुआ था और हम पिछले 7 सालों से अपनी बेटी के हक के लिए लड़ रहे हैं। उसे जल्द न्याय मिलना चाहिए। प्रशासन को अब इस तरफ गंभीरता से सोचना होगा कि इस तरह की घटनाएं क्यूं बार-बार दोहराई जा रही हैं''। 

बता दें कि हैदराबाद में महिला के साथ रेप व हत्या की खबर पर निर्भया की मां ने बताया कि ये घटना उन्हें 2012 की याद दिलाता है जब उनकी बेटी के साथ भी कुछ ऐसा ही वहशीपन किया गया था। हैदराबाद मामले ने एक बार निर्भया की मां के गहरे जख्म ताजा कर दिए हैं। गौरतलब है कि हैदराबाद के इस रेप व हत्याकांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था।