गार्गी कॉलेज विवाद में सभी आरोपियों को कोर्ट ने जमानत पर रिहा करने का दिया आदेश

Publish On: 14 Feb, 2020 03:30 PM | Updated   |   Shivani  

दिल्ली यूनिवर्सिटी के गार्गी कॉलेज में छात्राओं के साथ हुए छेड़छाड़ मामले में साकेत कोर्ट ने गिरफ्तार किए गए सभी 10 आरोपियों को बेल पर रिहा करने का आदेश किया है। कोर्ट ने आरोपियों पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाते हुए जमानत दी है।

और पढ़ें-

Pulwama Attack: देश ने शहीदों को किया सलाम, CRPF ने लिखा- हम भूले नहीं, हमने छोड़ा नहीं

दिल्ली के गार्गी कॉलेज में 6 फरवरी को कॉलेज फेस्ट चल रहा था। इसी दौरान कुछ बाहरी लड़के शराब के नशे में कॉलेज की दीवार कूदकर अंदर आ गए और लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने लगे। जिसके बाद कॉलेज की सभी छात्राओं ने कॉलेज में धरना देते हुए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी।

मामले की खबर मिलते ही दिल्ली वीमेन कमीशन ने पूरे मामले को संज्ञान में लिया और खुद आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कॉलेज में जाकर लड़कियों से पूरे मामले की जानकारी ली। स्वाति मालीवाल ने इस बात पर भी सवाल उठाए थे कि पुलिस की इतनी कड़ी सिक्योरिटी के बाद भी यह घटना कैसे घट  गयी। घटना के 4 दिन बाद पुलिस ने इस मामले पर FIR दर्ज की और मामले की छानबीन शुरु की।

और पढ़ें-

गार्गी छेड़छाड़ मामला:10 गिरफ्तार लोगों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

छानबीन के बाद छेड़खानी के आरोप में पिचले दिन यानी 13 फरवरी को 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया, जिसमें कुछ लड़के DU और कुछ दिल्ली एनसीआर की प्राइवेट यूनिवर्सिटीज के छात्र हैं। पुलिस ने बताया कि इनको पता था कि गार्गी कॉलेज में फेस्ट चल रहा है, लेकिन इनके पास अंदर जाने के लिए एंट्री पास नहीं था, धीरे-धीरे गेट के बाहर भीड़ बढ़ती गई और फिर मेन गेट के पास जो केटरिंग वैन खड़ी थी उसमें धक्का देकर गेट तोड़ दिया और अंदर घुस गए, जिसके बाद ये पूरा विवाद हुआ।