ग्लोबल वार्मिंग के लिए बीफ इंडस्ट्री जिम्मेदार,बनिए शाकाहारी -जयराम रमेश

Publish On: 14 Feb, 2020 02:18 PM | Updated   |   Shivani  

पूर्व केंद्रीय पर्यावरण मंत्री और कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने लोगों से शाकाहारी बनने की अपील की है। जयराम नरेश ने बीफ इंडस्ट्री को ग्लोबल वार्मिंग के लिए जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने केरल में कहा कि एनवायरनमेंट बचाना है तो इसके लिए लोगों को शाकाहारी होना चाहिए। जयराम रमेश ने कहा, ''अगर आप ग्लोबल वार्मिंग के लिए कुछ करना चाहते हैं तो पहले शाकाहारी बनकर दिखाइए। बीफ इंडस्ट्री ग्लोबल वार्मिंग के लिए बहुत हद तक जिम्मेदार है।''

कांग्रेस नेता ने कहा कि मैं जानता हूँ कि केरल के भोजन में बीफ करी बहुत महत्वपूर्ण होती है और मुझे इस बात में भी कोई संदेह नहीं है कि नॉन वेजेटेरियन फूड का कार्बन फुटप्रिंट (कार्बन उत्सर्जन) वेजेटेरियन मील के मुकाबले बहुत ज्यादा होता है। ग्लोबल वार्मिंग से निपटने में शाकाहार की भूमिका पर पूछे गए एक सवाल का जयराम रमेश ने शाकाहार बनने का जवाब दिया। 

जयराम रमेश ने कहा कि पशु मिथेन छोड़ते हैं जो कार्बन डाईऑक्साइड से भी ज्यादा खतरनाक है। मैं 2009 में पर्यावरण मंत्री था, तब एक इंटरनेशनल कॉन्फ्रेंस में गया था। मैंने कहा था कि भारत को सलाह देने से पहले मैं दुनिया से अपील करता हूं कि बीफ खाना छोड़ दें। 

और पढ़ें- दिल्ली चुनावों में हारने के बाद कल 8 घंटे मैराथन समीक्षा करेगी BJP

जयराम रमेश ने आगे कहा, ''मेरे इस स्टेटमेंट का समर्थन विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने किया था। ऐसा पहली बार हुआ होगा जब वीएचपी ने मेरे किसी बयान का समर्थन किया हो।'' 

और पढ़ें- जम्मू -कश्मीर:370 हटने के बाद पहली बार घाटी में होंगे पंचायत चुनाव

उन्होंने कहा कि पशु पालन के लिए अर्जेंटिना, ब्राजील और अमेरिका के जंगल काटे जा रहे हैं। हालांकि जयराम रमेश ने स्पष्ट किया कि भोजन व्यक्ति की अपनी लाइफस्टाइल का हिस्सा है और भारत में नॉन वेजेटेरियन का सेवन विदेशों के मुकाबले काफी अलग है।