चीन की 'कमर' तोड़ने की तैयारी में सीएम योगी, आज शाम को बनाएंगे बड़ा प्लान

Publish Date: 23 May, 2020 02:24 PM   |   Shivalik  

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कोरोना वायरस से जंग जीतने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया है. इसी कड़ी में कोरोना जैसी खतरनाक बिमारी को पूरे देश में फैलाने चीन पर पूरे विश्व ने निगाहें टेढ़ी कर ली है. तो वहीं कंपनियां भी अब चीन से खुद को समेटने में जुट गयी है. इन कपंनियों को अब यूपी लाने के लिए उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विभाग ने कमर कस ली है. जिसके साथ औद्योगिक नीति में कुछ बदलाव की भी तैयारी है. मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ गुरुवार को खुद इस मुद्दे पर समीक्षा कर बड़े फैसले ले सकते है.

कोरोना की महामारी के बीच चीन का औद्योगिक शहर वुहान जिसने देश को मौत के तांडव में उतार दिया. चीन का वुहान शहर मौत की फैक्ट्री के तौर पर अपनी पहचान बना चुका है. उत्तर प्रदेश का औद्योगिक विभाग अब लगातार इस बात को लेकर मंथन कर रहा है कि किस तरीके इन कंपनियों के पलायन को यूपी की तरफ मोड़ा जा सके. हांलाकि इस मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर औद्योगिक मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह समेत कई अन्य अधिकारियों के साथ बैठक कर औद्योगिक नीति में बदलाव को लेकर समीक्षा की.  जिसकी रिपोर्ट आज मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दी जायेगी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास पर शाम 5 बजे होने वाली बैठक में औद्योगिक मंत्री सतीश महाना, कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह समेत कई विभाग के अन्य उच्च अधिकारियों को भी समीक्षा बैठक में बुलाया गया है. माना जा रहा है औद्योगिक नीति में बदलाव करते हुए कंपनियों को सब्सिडी समेत कई अन्य सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए कुछ बड़े फैसले देखने को मिल सकते है.
सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सैमसंग और आईफोन बनाने वाली ऐपल कपंनी चाइना से वियतनाम समेत अन्य देशों में औद्योगिक नीति को लेकर लगातार स्टडी कर रही है.

लेकिन अगर ये कंपनियां यूपी की तरफ रूख करती है तो यूनिट्स के प्रदेश में लगने से एक तरफ विकास को नयी रफ्तार मिलेगी. वहीं लाखों बेरोजगारों को रोजगार के नये अवसर मिल सकेंगे. इसी को देखते हुए सरकार अब नियमों में कुछ बदलाव समेत कुछ अन्य बड़े फैसले कर सकती है. जिसपर लेकर आज सीएम योगी खुद भी मंथन करेंगे.