ताजा खबरें
  • कुल कोरोना मामले: 1,73,763 | मौतें: 4,980 | केरला: 1,088 | महाराष्ट्र: 59,546 | कर्नाटक: 2,533 | तेलंगाना: 2,256| गुजरात:16,281 | राजस्थान: 8,067 | उत्तर प्रदेश: 7,170 | दिल्ली: 16,281 | पंजाब: 2,045 | तमिलनाडु: 19,372 | हरयाणा: 1,504 | मध्य प्रदेश: 7,453
  • वेस्ट बंगाल: 4,536 | आंध्र प्रदेश: 3,251 | लद्दाख: 73| बिहार: 3,296 | चंडीगढ़: 288 | अंडमान और निकोबार: 33 | छत्तीसगढ़: 399 | उत्तराखंड: 500 | गोवा: 69 | ओडिशा: 1,660 | हिमाचल प्रदेश: 276 | मिजोरम: 1 | पांडिचेरी: 51 | मणिपुर: 55

क्रिकेट: बांगर ने कहा, आपने जिस तरह से खेला है उस तरह से कोचिंग नहीं कर सकते

Publish Date: 22 May, 2020 03:00 PM   |   Shivalik  

भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाजी कोच संजय बांगर का मानना है कि खिलाड़ियों के लिए जरूरी है कि कोचिंग करते समय वे अपने अतीत को पीछे छोड़ दें। बांगर ने स्टार स्पोटर्स के शो पर कहा, हो सकता है कि जो खिलाड़ी उच्च स्तर पर खेले हैं वो इस बात को शायद न समझ पाएं कि एक औसत काबिलियत वाला खिलाड़ी किस स्थिति से गुजरता है।

उन्होंने कहा, कोचिंग की पढ़ाई करते हुए हमें जो बात बताई गई थी वो यह थी कि आपको अपने अतीत को पीछे छोड़ना होता है। आप उस तरह से कोचिंग नहीं कर सकते जिस तरह से आप खेला करते थे। वहीं न्यूजीलैंड के पूर्व कोच माइक हेसन का मानना है कि कोच को एक अच्छा खिलाड़ी बनाने के लिए भरोसा जीतना होता है।

हेसन ने कहा, एक बार जब खिलाड़ी आपको एक ऐसा कोच मान लेता है जो उसके काम आता है तो आपको सम्मान मिलता है। कुछ प्रशिक्षकों को इसमें समय लगता है। उन्होंने कहा, जब आप खिलाड़ियों के लिए उपयोगी हो जाते हैं तो वह सोचते हैं कि यह शख्स मेरे लिए काफी मददगार होने वाला है जो मुझ में से एक खिलाड़ी के तौर पर सर्वश्रेष्ठ निकलवा सकता है।